नफरत शायरी Nafrat shayari in hindi -

दोस्तों आज इस पोस्ट में हम ऐसी शायरी लेकर आए हैं जो "नफरत" ➡️ Nafrat शब्द को परिभाषित करती हैं। आप इन शायरियों को पढ़िए और अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिए।

Nafrat shayari in hindi, nafrat shayari image


इस पोस्ट में बेस्ट नफरत शायरी इन हिंदी का एक अच्छा संग्रह दिया गया है । इन शायरियों को आप अपने व्हाट्सएप या फेसबुक पर स्टेटस के रूप में लगा सकते हैं । अगर आपको प्यार में अपनी नफरत को जाहिर करना है तो इन शायरियों से अच्छा कुछ नहीं हो सकता।

These are the best and emotional shayari on nafrat to share with your friends.

Nafrat shayari|nafrat shayari in hindi|nafrat ki shayari|Nafrat shayari for girlfriend and boyfriend|Nafrat shayari image and photo


Nafrat shayari 2 line


Nafrat shayari in hindi

नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने आपसे
अगर मैं तेरी ही तरह तुझसे बात करुं।


रात को मुझे रुला कर सोना..
तेरी रोजाना की आदत बन गई है,
जिस दिन मैं सोती रह गई
तुझे सोने से भी नफरत हो जायेगी

वो नफरतें करते रहे
हम प्यार में डूबे रहे,
यह जिंदगी भी कट जाएगी
अब खाली हाथ सी


Nafrat attitude shayari

Nafrat shayari in hindi


आज जब गिरगिट देखा
तो तेरी याद आ गई
तूने भी रंग बदले थे
और मुझ पर सितम ढाए थे

मैं प्यार करूं, काबिल नहीं हो तुम
तुम्हें प्यार मिले, लायक नहीं हो तुम
मैं क्या कोई भी ऐतबार न करेगा
मुझे धोखा देने वाले, जाहिल हो तुम

कोई है जो मुझसे नफरत कर सके
जिसने मुझसे नफरत की थी
वह तो अब मुझे चाहने लगा है

Nafrat bhari shayari


Nafrat shayari in hindi

फूलों के साथ कांटे भी मिल जाते हैं
खुशी के साथ गम भी मिल जाते हैं
यह तो मजबूरी है हर आशिक की
वरना प्यार में नफरत कोई
जानबूझकर नहीं करता


कभी उसने भी हमें जी जान से चाहा था
रातों से अंगड़ाई को हमारे नाम किया था
आज वह मुझसे बात भी नहीं करती
ये वही है जिसने दिल मेरे नाम किया था

Nafrat shayari for girlfriend in hindi


Nafrat shayari hindi


कौन है वो जो
इश्क के बाजार में धांधली कर रही है
इश्क का बाजार लगाया है और
नफरत का सामान बेच रही है

Nafrat shayari in hindi

मेरा दिल तो एक परिंदा था
नफरत का तीर लगा तो
जमीन पर गिर गया
ए नफरत के तीर चलाने वाले
मुझे तूने जख्म दिया
क्या अब मरहम भी दे सकता है
दुश्मन की तरह वार किया तूने
प्यार की जगह सितम मिला मुझे

मेरा दिल तो मोम का निकला
थोड़े से प्यार मैं ही पिघल गया
अब तो बस नफरत बाकी है
कर लूंगा अब जी भर के

Nafrat shayari for boyfriend

Shayari on nafrat

हमसे ना मोहब्बत हुई
ना ही नफरत कर पाए
बस तेरे पीछे यह जिंदगी
बेकार चली गई


यह झूठे वादे अब और किसी से करना
शायद अगले प्यार में तुम्हें इनकी जरूरत पड़े
हम तो नफरत से ही काम चला लेंगे


ज्यादा कुछ नहीं बदलता
प्यार और नफरत में
पहले तुझे प्यार में याद करते थे
और अब नफरत में


इश्क ने मुझे जीना सिखा दिया
वफा के नाम पर मरना सिखा दिया
एक बार इश्क करके तो देखो
इसने हर दर्द सहना सिखा दिया


आज जब उसके प्यार का हिसाब लगाता हूं
मेरी वफा का क्या अंजाम दिया उसने
बस यही बार बार सोचता हूं
कि प्यार में नफरत कहां से आ गई


मुझसे नफरत करती है
और मेरे मुंह पर हंसती है
मेरे दिल पर छुरी चलाती है
यही वो कमबख्त है
जो मेरे दिल में रहती है
ऐसी क्या बात हो गई
जो मुझे इतना चिढ़ाती है
मिल गया होगा मुझसे अच्छा
राह भटक गई है
मेरे पास तू आएगी जरूर
कहीं देर ना हो जाए
संभाल ले अपने आप को

आज जब मुझसे नफरत करती है
तो वह दिन याद आते हैं मुझे
जब तोड़ दिए थे कई रिश्ते
उन उजाली आंखों को छोड़ आया
तेरे प्यार ने अंधा कर दिया मुझे
मैं अपनी आंखों का नूर
घर पर ही छोड़ आया


मुझे देख कर तू ऐसे पलट जाती है
लग रहा है तेरी मोहब्बत बड़ी गजब की थी

कल वह आई और बोली
कि तुझे छोडूंगी नहीं
ऐ नफरत करने वाली
क्या तू अब भी इतना प्यार करती है


अलग ही मजा आ रहा है
इस नफरत के बाजार में
वो रुलाए जा रहे हैं
और हम हंसते जा रहे हैं

Shayari on nafrat

प्यार भी और नफरत भी
क्या दोनों मुझसे ही करनी है
खुदा सलामत रखे तुमको
जो मुझे इस काबिल समझा


नफरत की तुझसे तो
इतना जल्दी पता चल गया
जो इतने साल से मोहब्बत की
उसका क्या हिसाब दोगी


तुझे प्यार करना है या नफरत
वो तो तेरी मर्जी की बात है
अंतर बस इतना है
प्यार से तू दिल में बस जाएगी
और नफरत से दिमाग में


हमने अपनी जिंदगी लुटा दी
उसकी नफरत पाने को
सोचो अगर वह हमसे प्यार करती हैं
तो सारा जहां उसके कदमों में होता


सुनी सुनाई बातों पर मत कर यकीन
नफरत करने से पहले
एक बार मेरे बारे में तो जान लिया होता।

Nafrat ki shayari

मत देना मुझे धोखा
जितनी तुझसे मोहब्बत की है
उतनी नफरत भी कर सकता हूं
क्योंकि जब भी शीशा टूटता है
वो हथियार में बदल जाता है


नफरत से बड़ा कोई रोग नहीं
जो भी करता है बिखर जाता है
कर लो इश्क इस जिंदगी में
टूट कर भी संभल जाओगे


तुझसे इतनी मोहब्बत की थी
की अब तुझे भुलाने के लिए
नफरत करनी पड़ रही है




Post a Comment

Previous Post Next Post