ब्यूटी पर शायरी Shayari for beauty | Shayari in beauty

दोस्तों आज हम इस पोस्ट में आपके लिए खूबसूरती से संबंधित शायरी shayari about beauty लेकर आए हैं । ये ऐसी शायरियां हैं जिनके द्वारा आप अपनी प्रेमिका के हुस्न की तारीफ कर सकते हैं और उनकी खूबसूरती के कसीदे पढ़ सकते हैं।

इन शायरियों के द्वारा आप उनके हुस्न की जी भर के तारीफ कीजिए और उन्हें बहुत खूबसूरत होने का एहसास दिलाइए। Shayari in beauty, shayari for beauty, shayari for praising beauty in hindi के लिए पढ़िए ये शायरियां



Shayari on beauty in hindi

मैं तुम्हारी खूबसूरती की क्या मिसाल दूं
यहां सबसे बेमिसाल हो तुम

...........



ए हुस्न वालों तुम इतना मत सजा करो
तुम्हारी सादगी ही बहुत कयामत ढाती है

...........


ए सनम तुझमें इतनी नजाकत कहां से आ गई
कहीं तू शायर का कोई दर्द तो नहीं

...........



ऐसा ना हो तू खुद को चाहने लगे
तनहाई में तू अपनी तस्वीर ना देखा कर



...........


क्या लिखूं तेरी तारीफ में आज
शब्द कम पड़ रहे हैं तुझे देख कर

...........


तू मिले ना मिले यह तो किस्मत की बात है
लेकिन अपनी किस्मत जरूर आजमाउंगा मैं
तुझे सौंप दिया है आज मैंने अपना दिल
अपना दिल किसी को नहीं दे पाऊंगा मैं


...........



नींद से क्या शिकायत करूं जो रात भर नहीं आती
कसूर तो सनम के चेहरे का है जो रात भर याद आता है

...........


उनके हुस्न की क्या तारीफ करूं
खुद तस्वीर हो गया हूं उनकी तस्वीर देखकर

...........




Hindi shayari for beauty

इस हुस्न को मत छुपा किसी पर्दे से
वैसे भी कौन होश में रहता है तुझे देखकर

...........



तराशा है खुदा ने उनको बस ये सोच कर
कोई बच ना पाए इनका हुस्न देखकर
बच भी गया तो मर जाएगा
घटाओं जैसी जुल्फ देखकर
उसकी आंखों से क्या कोई बच पाएगा
जो छोड़ते हैं तीर सनम देख कर

...........


सुना है उस पर कोई नहीं बच पाता
उसके नैनों की कटार ही ऐसी है

...........


तुम बैठी रहो सामने तुम्हारा हुस्न देखता रहूं
अगर मौत भी आ जाए अब
तो मरके भी जीता रहूं

...........


तेरे हुस्न की कैसे तारीफ करूं
तेरे हुस्न की कैसे तारीफ करूं
कहने से भी डर लगता है
कहीं तुझे पता न लग जाए कि
मैं तुमसे मोहब्बत करता हूं

...........


शायरी कोई दिल्लगी नहीं है
जो किसी हुस्न पर बर्बाद की जाए
यह तो वह शमा है
जो किसी नूर पर ही उतारी जाए

...........


खुदा ने उन्हें इस कदर तराशा है कि
उनकी जुल्फें जो बादल की याद दिला दें
तबीयत बिगड़ जाएगी किसी नेक दिल की
जरा संभल कर रहना


Post a Comment

Previous Post Next Post