मेहनत शायरी Mehnat shayari -



कौन कहता है कि मैं मेहनत नहीं करता
बस मेरी तकदीर मुझसे रूठी हुई है
Kaun Kahta Hai Ki Main mehnat nahin karta 
bus Meri takdeer Mujhse ruthi Hui Hai

..........



मेहनत इतनी करो कि
ख्वाब भी हकीकत बन जाए
तुम खुद ना बताओ अपनी पहचान
खुद सफलता ही तुम्हारी पहचान बन जाए
Mehnat Itni karo ki
 Khwab bhi Hakikat Ban Jaaye 
Tum Khud na batao apni pahchan Khud safalta Hi Tumhari pahchan Ban Jaaye

...........




मैं बढ़ता रहा
मेहनत की पगडंडियों से
मंजिल खुद ही पास आ गई
मेरा हौसला देखकर
Mein badhta Raha
 mehnat ki pugdandi se 
Manjil Khud Hi paas aa Gai
 Mera Hosla Dekhkar

...........


अगर मेहनत करते हो दिलो जान से
तो कौन रोकेगा तुम्हें उड़ने से इस आसमान में
Agar mehnat karte ho Dilo Jaan Se 
to Kaun rokega Tumhen Udne se iss Aasman mein


बढ़ता रहूंगा मंजिल की राहों पर
मंजिल मिल गई तो ठीक नहीं तो
अच्छा मुसाफिर बन जाऊंगा
Badhta rahunga Manjil Ki Rahon per Manjil Mil Gai to theek Nahin to Achcha Musafir Ban Jaunga.

..........


जो खून पसीने से लिखते हैं अपने इरादे
उनकी तकदीर के पन्ने कभी खाली नहीं होते
Jo Khoon Pasina Se likhate Hain Apne Irade 
Unki takdeer ke panne Kabhi Khali Nahin Hote

..........


ना किसी से छीन कर लाऊंगा
ना किसी का फेंका हुआ उठाऊंगा
मिल जाए बस मुझे मेरे नसीब का
मिल जाए तो ठीक नहीं तो कोई गम नहीं
जो भी मिले बस मेहनत का मिले
Na Kisi Se chhin Kar launga 
Na Kisi ka fenka hua uthaunga 
mil jaaye bus Mujhe Mere Naseeb ka mil jaaye to theek Nahin to Koi Gam Nahin 
jo bhi Mile Bus mehnat ka mile

...........


नहीं मिलता कुछ भी दुनिया में बिना मेहनत के
अपना साया भी धूप के आने पर दिखाई देता है
Nahin Milta Kuchh Bhi Duniya Mein Bina mehnat Ke 
Apna Saya bhi dhup Ke Aane per Dikhai deta hai

...........



कुछ कर दिखाना है तो
मेहनत पर भरोसा करना पड़ेगा
बुलंदियों को छूना है तो
कड़ी धूप में तपना पड़ेगा
Kuchh kar dikhana Hai To mehnat per Bharosa karna padega bulandiyan Ko chhuna Hai To Kadi dhup Mein tapna Padega

...........


आग में तप कर ही सोना गहना बनता है
वर्षों की तपस्या से ही कोयला हीरा बनता है
मत भाग मेहनत से तू आज
मेहनत से ही ये जहां हसीन बनता है
Aag Mein tap kar hi Sona gahna banta hai
 barshon ki Tapasya Se Hi Koyla Hira banta hai
 mat Bhag mehnat Se Tu Aaj 
mehnat Se Hi ye Jahan Hasin banta hai.

...........



मिल जाएगा सब कुछ तुम्हें बिना मेहनत के
लेकिन अपना वजूद सिर्फ मेहनत से मिलेगा
Mil Jaega Sab Kuchh Tumhen Bina mehnat ke 
lekin Apna vajud sirf mehnat se milega

...........


कर लो मेहनत कुछ साल जी भर के दिन रात
फिर जी भर के मजे करना यारों के साथ
Kar lo mehnat Kuchh Sal Ji Bhar Ke Din Raat 
Fir Ji Bhar ke maje karna Yaaron ke saath

...........



एक दिन मेरी मेहनत की बारी भी आएगी
जिस दिन सफलता अपना सिर झुकाएगी।
Ek Din Meri mehnat ki Bari bhi Aaegi
Jis Din safalta Apna Sar Jhukaegi

...........


मंजिल पर हक किसी का नहीं होता
जो मेहनत कर लेगा वह पा लेगा
Manjil per Hak Kisi Ka Nahin Hota
 Jo mehnat kar lega wo Paa lega

..........


हाथ की लकीरों के सामने होती हैं उंगलियां
जो किस्मत से ना मिले उसे मेहनत से पा लो
Hath ki lakiron Ke Samne hoti hain ungliyan 
Jo Kismat Se Na Mile use mehnat se pa lo

मजा तो उस काम को करने में आता है
जिसे लोग कहते हैं This is Impossible
Maja to us kam ko karne mein Aata Hai
 jisse Log Kahate Hain This is impossible

लोग कहते हैं बिना मेहनत के कुछ नहीं मिलता लेकिन ये गम तो हमें बिना मेहनत के ही मिले
Log Kahate Hain Bina mehnat ke Kuchh Nahin Milta 
lekin yah Gam To Hamen Bina mehnat ki hi mile

Post a Comment

Previous Post Next Post